ब्लौग सेतु....

24 जुलाई 2017

गाजे घन....................

घनन घनन घन गाजे घन
सन सन सनन समीर
छनन छनन छन पायलें
कल कल नदिया नीर

कुहू कुहू कुक कोयली
पिहू पिहू मित मोर
हर रही चित चंचल को
सुखद सुहानी भोर
अंबर तक उड़ता आँचल
लहरे मन के तीर.      घनन घनन घन........

मगन मगन मन मीत का
बहके बहके नैन
मचलूँ निरखूँ रूप को
पाऊँ कैसे चैन
कड़वी तुमसे दूरियाँ 
मीठी मन की पीर.      घनन घनन घन........

खनन खनन खन कँगना
लगन अगन के फेर
मनन रुठन संग साजना
चुहल साँझ सवेर
बाँटे तोहफ़े प्रीत के
दोनों प्रेम फ़कीर.      घनन घनन घन........

…………………. © के. एल. स्वामी ‘केशव’


3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (26-07-2017) को पसारे हाथ जाता वो नहीं सुख-शान्ति पाया है; चर्चामंच 2678 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...